Visit our other dedicated websites
Asha Bhonsle Geeta Dutt Hamara Forums Hamara Photos Kishore Kumar Mohd Rafi Nice Songs Shreya Ghoshal
Hamara Forums

Welcome Guest ( Log In | Register )

Shailendra Quiz

, Shailendra with twelve MD's

 
 
Reply to this topicStart new topic
> Shailendra Quiz, Shailendra with twelve MD's
p1j
post Dec 14 2003, 12:59 PM
Post #1


Regular Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 348
Joined: 21-October 03
From: Jaipur, India
Member No.: 8



Friends,

Here is a small quiz on Shailendra's death anniversary...
Please identify the following songs on the basis of stanza..
Each song represents a different film and a different MD.
Post your answers on the forum itself..
Lets see how quick the complete quiz is solved..

In case you cant see the unicode hindi text please follow the instructions
in the end of this post..


शैलेन्द्र के प्रतिनिधि गीत

इस क्विज़ मे शैलेन्द्र के कुछ गीत पेश हैं अलग अलग रंग और मूड के,
अलग अलग संगीतकारों के साथ..
पहचानिये गीतों को, संगीतकारों के साथ


1. मेरे गीतों के मचलते हुए स्वर
उनके आंगन में उतर उन्हें मेरे पास खींच लाएंगे


2. जब गम का अन्धेरा घिर आये, समझो के सवेरा दूर नहीं
समझो के सवेरा दूर नहीं
हर रात की है सौगात यही, तारे भी यही दोहराते हैं


3. नेहा लगा के मैं पछताई
सारी सारी रैना निन्दिया ना आई
जान के देखो मेरे जी की बतिया

4. नैन तुम्हारे चांद और सूरज
फूल से जीवन ज्योति
सदा मेरे पलकों मे रहना मेरे मन के मोती
एक बार मां कहने पर हम न्यौछावर होंगे सौ बार

5. चुप हैं चांद चांदनी, चुप ये आसमान है
मीठी मीठी नींद में, सो रहा जहान है


6. थम गया पानी, जम गयी कायी
बहती नदिया ही साफ़ कहलायी

7. आंख में बून्द भर जो पानी है
प्यार की इक यही निशानी है
रोते बीति है जो बिताई है

8. हम इस राह पे, मिले इस तरह
के अब उम्र भर, न होंगे जुदा
मेरे साज़-ए-दिल की आवाज़ हो तुम
मैं कुछ भी नहीं तुम्हारे बिना


9. देंगे दुख कब तक भरम के ये चोर
अरे ढलेगी ये रात प्यारे फिर होगी भोर
कब रोके रुकी है समय की नदिया
घबरा के यूं गिला मत कीजे


10. सूना सूना घर मोहे डसने को आये रे
खिडकी पे बैठी बैठी सारी रैन जाये रे

11. झलके ना कुछ भी, आशा निराशा
क्या कोई समझे, नैनों की भाषा
चेहरा कि जैसे, कोरा सफ़ा है
किस्मत ने जिस पर, कुछ ना लिखा है

12.
चंद दिन था बसेरा हमारा यहां
हम भी मेहमान थे, घर तो उस पार था
हमसफ़र एक दिन तो बिछडना ही था
अलविदा अलविदा

enjoy

just another Shailendra fan
Pavan Jha

Instructions of Unicode hindi

First try this
view->Encoding->Unicode(UTF-8) in your browser/mail client.

if this doesn't work...

In case you are using Win2k/XP go to Control Panel->Regional
Options->Language Settings->select Indic (Check it) and then see if Hindi
is present in Locale list...(You might need Installation CD of Windows if it
was not installed)

In case you are using Win 9x/me (or the above doesnt work) go to
http://www.bbc.co.uk/hindi/
It has a font and dll download on the homepage for unicode hindi.

In case you are on Linux/Unix, you need to have a Unicode devnagri font to
be installed..

If above doesn't help, let me know what OS/browser you are using... (catch
me on msn sargamkesaathi@hotmail.com)
The best benchmark is http://www.bbc.co.uk/hindi site.. let me know if you
are able to read the site properly or can see only junk..


User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
p1j
post Dec 17 2003, 12:17 AM
Post #2


Regular Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 348
Joined: 21-October 03
From: Jaipur, India
Member No.: 8



Friends,

Here are the the answers of the quiz.. which was solved by cumilitive
efforts of Vinayak, Amarendra, Ritu and Shobhan...

just another shailendra fan
Pavan Jha

The answers :

शैलेन्द्र के प्रतिनिधि गीत

क्विज़ के उत्तर आपके समक्ष प्रस्तुत हैं.
इस क्विज़ में शैलेन्द्र के १२ गीत शामिल किये गये
अलग अलग रंग और मूड के, अलग अलग संगीतकारों के साथ..

इन बारह गीतों पे नज़र डालें तो इस बात को आसानी से समझा जा सकता है
कि शैलेन्द्र को जन-कवि क्यों कहा जाता है...
गम, खुशी, विरह, आशा, प्रेम, दर्द, ममता के अलग अलग रंगो के साथ जीवन के दर्शन
को आम आदमी की भाषा मे शैलेन्द्र ने जितनी खूबी से पेश किया है वो लाजवाब है.


1. मेरे गीतों के मचलते हुए स्वर
उनके आंगन में उतर उन्हें मेरे पास खींच लाएंगे

उ. मेरे ख्वाबों मे खयालों मे
फि. हनीमून
सं. सलिल चौधरी
गा. मुकेश और लता

2. जब गम का अन्धेरा घिर आये, समझो के सवेरा दूर नहीं
समझो के सवेरा दूर नहीं
हर रात की है सौगात यही,
तारे भी यही दोहराते हैं

उ. हैं सबसे मधुर वो गीत जिन्हें हम दर्द के सुर मे गाते हैं
फि. पतिता
सं. शंकर जयकिशन
गा. तलत महमूद


3. नेहा लगा के मैं पछताई
सारी सारी रैना निन्दिया ना आई
जान के देखो मेरे जी की बतिया

उ. कैसे दिन बीते कैसे बीति रतिया
फि. अनुराधा
सं. रवि शन्कर
गा. लता


4. नैन तुम्हारे चांद और सूरज
फूल से जीवन ज्योति
सदा मेरे पलकों मे रहना मेरे मन के मोती
एक बार मां कहने पर हम न्यौछावर होंगे सौ बार


उ. कल के चांद आज के सपने
फि. नयी राहें
सं. रवि
गा. लता और हेमन्त कुमार


5. चुप हैं चांद चांदनी, चुप ये आसमान है
मीठी मीठी नींद में, सो रहा जहान है


उ. झूमती चली हवा, याद आ गया कोइ
फि. संगीत सम्राट तानसेन
सं. एस एन त्रिपाठी
गा. मुकेश

6. थम गया पानी, जम गयी कायी
बहती नदिया ही साफ़ कहलायी

उ. ना मैं धन चाहूं, बा रतन चाहूं
फि. काला बाज़ार
सं. एस डी बर्मन
गा. गीत दत्त और सुधा मल्होत्रा

7. आंख में बून्द भर जो पानी है
प्यार की इक यही निशानी है
रोते बीति है जो बिताई है

उ. फिर वो भूली सी याद आयी है
फि. बेगाना
सं. सपन जगमोहन
गा. मोहम्मद रफ़ी

8. हम इस राह पे, मिले इस तरह
के अब उम्र भर, न होंगे जुदा
मेरे साज़-ए-दिल की आवाज़ हो तुम
मैं कुछ भी नहीं तुम्हारे बिना


उ. साथ हो तुम और रात जवां
फि. कांच की गुडिया
सं. सुह्रिद कर
गा. मुकेश और आशा

9. देंगे दुख कब तक भरम के ये चोर
अरे ढलेगी ये रात प्यारे फिर होगी भोर
कब रोके रुकी है समय की नदिया
घबरा के यूं गिला मत कीजे

उ. बहुत दिया देने वाले ने तुझको, आन्चल मे ना समाये तो क्या कीजे
फि. सूरत और सीरत
सं. रोशन
गा. मुकेश

10. सूना सूना घर मोहे डसने को आये रे
खिडकी पे बैठी बैठी सारी रैन जाये रे

उ. घर आजा घिर आये बदरा सांवरिया
फि. छोटे नवाब
सं. आर डी बर्मन
गा. लता


11. झलके ना कुछ भी, आशा निराशा
क्या कोई समझे, नैनों की भाषा
चेहरा कि जैसे, कोरा सफ़ा है
किस्मत ने जिस पर, कुछ ना लिखा है

उ. चलती चली जाये ज़िन्दगी की डगर....दूर का राही
फि. दूर का राही
सं. किशोर कुमार
गा. हेमन्त कुमार


12.
चंद दिन था बसेरा हमारा यहां
हम भी मेहमान थे, घर तो उस पार था
हमसफ़र एक दिन तो बिछडना ही था
अलविदा अलविदा


उ. ज़िन्दगी ख्वाब है, था हमें भी पता
फि. छोटी छोटी बातें
सं. अनिल बिस्वास
गा. मुकेश
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
Chitralekha
post Dec 17 2003, 12:53 AM
Post #3


Dedicated Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 4431
Joined: 22-October 03
Member No.: 13



Thanks a lot for the quiz, Pavanji.

I couldnt figure out any songs. I havent heard almost half of these songs so now will listen smile.gif

Thank you.
Chitralekha
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
extenok
post Dec 17 2003, 03:21 PM
Post #4


Dedicated Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 1068
Joined: 25-October 03
Member No.: 33




I can see the 'unicode hindi text' but can't read hindi (unfortunately).



zindagi ne kar diya, jab bhi udaas
aa gaye ghabra ke hum, manzil ke paas
sar jhukaaya, sar jhuka kar ro diye
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
Pradeep
post Dec 17 2003, 03:26 PM
Post #5


Dedicated Member
Group Icon

Group: Admin
Posts: 6844
Joined: 20-October 03
Member No.: 2



Kaash mein hindi medium mein pada hota rolleyes.gif

kuch bhi nahin hai tera mol, boli na badi bol, khilona tu maati ka...
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
extenok
post Dec 17 2003, 04:02 PM
Post #6


Dedicated Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 1068
Joined: 25-October 03
Member No.: 33



QUOTE (Pradeep @ Dec 17 2003, 03:26 PM)
Kaash mein hindi medium mein pada hota rolleyes.gif


budhuu, abhi to urdu likhnay mein itni mushkil hoti hae...
and you want me to learn hindi too ohmy.gif
and to think ... i could've learnt French or something exotic ... some romantic language to impress the ladies laugh.gif



zindagi ne kar diya, jab bhi udaas
aa gaye ghabra ke hum, manzil ke paas
sar jhukaaya, sar jhuka kar ro diye
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
p1j
post Dec 18 2003, 12:00 AM
Post #7


Regular Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 348
Joined: 21-October 03
From: Jaipur, India
Member No.: 8



QUOTE (extenok @ Dec 17 2003, 03:21 PM)
I can see the 'unicode hindi text' but can't read hindi (unfortunately).

here is the translation of the quiz post...


इस क्विज़ मे शैलेन्द्र के कुछ गीत पेश हैं अलग अलग रंग और मूड के,
अलग अलग संगीतकारों के साथ..
पहचानिये गीतों को, संगीतकारों के साथ


The quiz features Shailendra songs of different moods and colors fr different MD's
Identify the songs and the MD's

1. मेरे गीतों के मचलते हुए स्वर
उनके आंगन में उतर उन्हें मेरे पास खींच लाएंगे

Mere geeton me machalte hue swar
Unke aangan me utar,
unhein mere paas kheench laayenge

2. जब गम का अन्धेरा घिर आये, समझो के सवेरा दूर नहीं
समझो के सवेरा दूर नहीं
हर रात की है सौगात यही, तारे भी यही दोहराते हैं

Jab gham ka andhera ghir aaye
samajho ke savera door nahin
har raat ki hai saugaat yehi
taare bhi yeho dohraate hain


3. नेहा लगा के मैं पछताई
सारी सारी रैना निन्दिया ना आई
जान के देखो मेरे जी की बतिया

Neha lagake main pachhtaai
saari saari raina nindiya na aaee
jaan ke dekho mere jee ki batiya

4. नैन तुम्हारे चांद और सूरज
फूल से जीवन ज्योति
सदा मेरे पलकों मे रहना मेरे मन के मोती
एक बार मां कहने पर हम न्यौछावर होंगे सौ बार

Nain tumhare chaand aur sooraj
phool se jeevan jyoti
Sada meri palkon me rehna mere man ke moti
ek baar maan kahne par hum nyochhawar honge sau baar


5. चुप हैं चांद चांदनी, चुप ये आसमान है
मीठी मीठी नींद में, सो रहा जहान है

chup hai chaand chaandni, chup ye aasmaan hai
meethi meethi neend mei, so raha jahaan hai

6. थम गया पानी, जम गयी कायी
बहती नदिया ही साफ़ कहलायी

tham gayaa paani jam gayee kaayi
behti nadiyaa hi saaf kahalaayee

7. आंख में बून्द भर जो पानी है
प्यार की इक यही निशानी है
रोते बीति है जो बिताई है

aankh me boond bhar jo paani hai
pyaar ki ik yeho nishani hai
rote beeti hai, jo bitaai hai

8. हम इस राह पे, मिले इस तरह
के अब उम्र भर, न होंगे जुदा
मेरे साज़-ए-दिल की आवाज़ हो तुम
मैं कुछ भी नहीं तुम्हारे बिना

hum is raah pe, mile is tarah
ke ab umra bhar, na honge juda
mere saaz-e-dil ki aawaaz ho tum
main kuchh bhi nahin hoon tumhare bina

9. देंगे दुख कब तक भरम के ये चोर
अरे ढलेगी ये रात प्यारे फिर होगी भोर
कब रोके रुकी है समय की नदिया
घबरा के यूं गिला मत कीजे

denge dukh kab tak bharam ke ye chor
are dhalegi ye raat, pyaare phir hogi bhor
kab roke ruki hai samay ki nadiya
ghabaraa ke youn gila mat keeje

10. सूना सूना घर मोहे डसने को आये रे
खिडकी पे बैठी बैठी सारी रैन जाये रे

soona soona ghar mohe dasne ko aaye re
khidaki pe baithi baithi saari rain jaaye re


11. झलके ना कुछ भी, आशा निराशा
क्या कोई समझे, नैनों की भाषा
चेहरा कि जैसे, कोरा सफ़ा है
किस्मत ने जिस पर, कुछ ना लिखा है

jhalke naa kuchh bhi, aashaa niraasha
kya koi samajhe, naino ki bhaasha
chehra ki jaise, kora safaa hai
kismat ne jis par, kuchh na likha hai

12.
चंद दिन था बसेरा हमारा यहां
हम भी मेहमान थे, घर तो उस पार था
हमसफ़र एक दिन तो बिछडना ही था
अलविदा अलविदा

chand din tha basera hamara yahan
hum bhi mehmaan the, ghar to us paar tha
humsafar ek din to bichhandana hi tha
alvida alvida
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post

Reply to this topicStart new topic
8 User(s) are reading this topic (8 Guests and 0 Anonymous Users)
0 Members:


 



- Lo-Fi Version | Disclaimer | HF Guidelines | Be An Angel Time is now: 22nd April 2021 - 02:02 AM