Visit our other dedicated websites
Asha Bhonsle Geeta Dutt Hamara Forums Hamara Photos Kishore Kumar Mohd Rafi Nice Songs Shreya Ghoshal
Hamara Forums

Welcome Guest ( Log In | Register )

तलत महमूद का गाया हुआ एक दुर्लभ और मधुर गैर फिल्मी गीत

 
 
Reply to this topicStart new topic
> तलत महमूद का गाया हुआ एक दुर्लभ और मधुर गैर फिल्मी गीत
nahar
post Sep 2 2008, 07:10 PM
Post #1


Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 48
Joined: 22-January 07
Member No.: 9863



तलत महमूद का गाया हुआ एक दुर्लभ और मधुर गैर फिल्मी गीत

मखमली आवाज के मालिक तलत महमूद साहब के लिये कुछ कहने की जरूरत है? मुझे लगता है शायद उनकी लिये यहाँ कुछ शब्दों में लिखना बड़ा मुश्किल होगा। आपके लिये उनकी मधुर आवाज में एक दुर्लभ पेश है। यह गैर फिल्मी गीत है और इसका संगीत दिया है दुर्गा सेन ने और इसे लिखा है फ़ैयाज़ हाशमी ने। इसे डाउनलोड करने से पहले आप अगर सुनना चाहें तो नीचे दिये लिंक पर जा कर सुन भी सकते है।

एक नया अनमोल जीवन मिल गया

Music : Durga Sen
Lyric : Faiyyaz Hashmi
Bit Rate: 128 Kbps
oroginal File Size : 2.66Mb




एक नया अनमोल जीवन मिल गया, मिल गया
हार की बांहे गले में पड़ गई
क्या हुआ गर चार आँखे लड़ गई
क्या गया गर दिल के बदले दिल गया
एक नया अनमोल जीवन

प्रेम अब छाया है मन के गाँव में
एक सुनहरा है कमल इस छाँव में
खुल के वो मुझसे मिली ये खिल गया
एक नया अनमोल जीवन

मेरे दिन में रात में आई बहार
वो जो आई साथ में लाई बहार-२
दिल जो गया तो दर्द भी शामिल गया-२
एक नया अनमोल जीवन

This post has been edited by nahar: Sep 2 2008, 07:20 PM

User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
bawlachintu
post Apr 8 2009, 06:10 PM
Post #2


Dedicated Member
Group Icon

Group: Members
Posts: 7418
Joined: 26-August 04
Member No.: 743



धन्यवाद् मित्र इस गाने के बोल पेश करने के लिए


Here is the best singer of universe

"The power of accurate observation is commonly called cynicism by those who have not got it." -George Bernard Shaw ."

User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post
tiajoshi
post Jun 15 2009, 04:12 AM
Post #3


Member
Group Icon

Group: Away
Posts: 28
Joined: 30-May 09
Member No.: 120364



मेरी ओर से भी एक ग़ैर फ़िल्मी गीत तलत साहब कि आवाज़ में पेश-ए-खिदमत है, मुलाहेज़ा फ़रमाइयेगा

raat andheri, dur kinara
Non-film
lyrics : Bharat Vyas
Music: V.Balsara
size: 4.3 mb
duration:00:03:26
bit rate: 192 kbps
format: mp3





with lyrics in Hindi fonts:

रात अंधेरी, दूर किनारा,
कोई नहिं है अपना सहारा
ईतनी बडी दुनिया है मगर,
ईस दुनिया में है कौन हमारा
रात अंधेरी, दूर किनारा,
कोई नहिं है अपना सहारा

आंसू मिले हमें बदले खुशी के,
ग़म हि मिला हमको बदले में प्यार के
क्याथी ख़ता, मेरे मालिक बता दो,
कांटे बने आज गूल ये बहार के
उजडा है घर, ले कौन ख़बर,
नहीं आता नज़र,किस्मत का सितारा
रात अंधेरी, दूर किनारा,
कोई नहिं है अपना सहारा

ढलने लगा दिन, जलने लगा दिल,
साथी सब ही चल दिये मूख़डे मोड के
प्यासी नज़र है,प्यासा जिगर है,
कोइ चल दिल को प्यासा ही छोड के
राह रुकी है ,पाँऊ थके है,
आस मिटी,नहिं हिम्मत हारा
रात अंधेरी, दूर किनारा,
कोई नहिं है अपना सहारा

.................................
दिल में नाकाम हसरतें ले कर,
हम तेरा इंतेज़ार करते हैं
.................................
User is offlineProfile CardPM
Go to the top of the page
+Quote Post

Reply to this topicStart new topic
1 User(s) are reading this topic (1 Guests and 0 Anonymous Users)
0 Members:


 



- Lo-Fi Version | Disclaimer | HF Guidelines | Be An Angel Time is now: 13th November 2018 - 04:28 AM